खीसा

इ मगही किताब मगही के देहात आउ शहर के आदमीसे मील के लीखलन गेल हे। इ हमनी के अपन बोल-चाल मे हे, मगही अनपड़ भी चीत्र देख के समझ जइतन।